JPC- CAG

Oh yes,this is the true story! the truth and fearless comments cleanmediatoday.blogspot.com
    


2जी : जेपीसी के सामने होगी कैग की पेशी 

क्लीन मीडिया संवाददाता 

नई दिल्ली, 31 अक्तूबर (सीएमसी) : 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाला मामले में 1.76 लाख करोड़ रुपये के नुकसान के आंकड़े को लेकर विवाद के मद्देनजर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) विनोद राय और संस्थान के अन्य अधिकारियों से इस मामले में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) के सामने पेश होने के लिए कहा जाएगा।
 जेपीसी की सोमवार को हुई बैठक में राय और उप महानियंत्रक एवं लेखा परीक्षक रेखा गुप्ता और अन्य अधिकारियों की पेशी का फैसला किया गया ताकि वे इसका ब्यौरा दे सकें कि 2जी रेडियोवेव के आवंटन के संबंध में 1.76 लाख करोड़ रुपये के नुकसान के आंकड़े तक वे कैसे पहुंचे।
 पूर्व लेखा परीक्षक महानिदेशक (डाक एवं दूरसंचार) आरपी सिंह को भी समिति के सामने पेश होने के लिए कहा जा सकता है। सिंह 2जी स्पेक्टूम आवंटन मामले में सिंह प्रमुख लेखा परीक्षक थे और कथित तौर पर उन्होंने 1.76 लाख करोड़ रुपये के नुकसान के आंकड़े पर अपनी असहमति जताई थी। सिंह ने कहा था कि नुकसान दरअसल 2,645 करोड़ रुपये का हुआ है। समझा जाता है कि कांग्रेस के सदस्य मनीष तिवारी ने बैठक में नुकसान के आंकड़े के संबंध में सीएजी में मतभेद का मामला उठाया और राय को सफाई देने के लिए बुलाने की मांग की। माना जाता है कि उनका समर्थन गैर संप्रग सदस्यों ने भी किया।
 जेपीसी के एक सदस्य ने कहा कि कैग ने विशाल दस्तावेज मुहैया कराया है और सदस्यों को पहले इसे पढ़ना होगा। कैग को 15 नवंबर को बुलाया जा सकता है। समिति की बैठक अगले महीने 14 और 15 तारीख को होनी है। बिहार के कुछ सदस्यों की मांग के बाद कल होने वाली समिति की बैठक छठ के कारण टाल दी गई। राय ने हाल ही में जेपीसी को पत्र लिखकर कहा था कि जब भी कहा जाएगा वे और उनके अधिकारी ‘सहायता’ के लिये उपलब्ध रहेंगे।